Tags

एक मकड़ी थी. उसने आराम से रहने के लिए एक शानदार
जाला बनाने का विचार किया और सोचा की इस जाले मे
खूब कीड़ें, मक्खियाँ फसेंगी और मै उसे आहार
बनाउंगी और मजे से रहूंगी . उसने कमरे के एक कोने
को पसंद किया और वहाँ जाला बुनना शुरू किया. कुछ देर
बाद आधा जाला बुन कर तैयार हो गया. यह देखकर वह
मकड़ी काफी खुश हुई कि तभी अचानक उसकी नजर एक
बिल्ली पर पड़ी जो उसे देखकर हँस रही थी.
मकड़ी को गुस्सा आ गया और वह बिल्ली से बोली , ” हँस
क्यो रही हो?”
”हँसू नही तो क्या करू.” , बिल्ली ने जवाब दिया , ”
यहाँ मक्खियाँ नही है ये जगह तो बिलकुल साफ सुथरी है,
यहाँ कौन आयेगा तेरे जाले मे.”
ये बात मकड़ी के गले उतर गई. उसने अच्छी सलाह के
लिये बिल्ली को धन्यवाद दिया और जाला अधूरा छोड़कर
दूसरी जगह तलाश करने लगी. उसने ईधर ऊधर देखा. उसे
एक खिड़की नजर आयी और फिर उसमे जाला बुनना शुरू
किया कुछ देर तक वह जाला बुनती रही , तभी एक
चिड़िया आयी और मकड़ी का मजाक उड़ाते हुए बोली , ”
अरे मकड़ी , तू भी कितनी बेवकूफ है.”
“क्यो ?”, मकड़ी ने पूछा.
चिड़िया उसे समझाने लगी , ” अरे यहां तो खिड़की से तेज
हवा आती है. यहा तो तू अपने जाले के साथ ही उड़
जायेगी.”
मकड़ी को चिड़िया की बात ठीक लगीँ और वह
वहाँ भी जाला अधूरा बना छोड़कर सोचने लगी अब
कहाँ जाला बनायाँ जाये. समय काफी बीत चूका था और
अब उसे भूख भी लगने लगी थी .अब उसे एक
आलमारी का खुला दरवाजा दिखा और उसने उसी मे
अपना जाला बुनना शुरू किया. कुछ
जाला बुना ही था तभी उसे एक काक्रोच नजर
आया जो जाले को अचरज भरे नजरो से देख रहा था.
मकड़ी ने पूछा – ‘इस तरह क्यो देख रहे हो?’
काक्रोच बोला-,” अरे यहाँ कहाँ जाला बुनने चली आयी ये
तो बेकार की आलमारी है. अभी ये यहाँ पड़ी है कुछ
दिनों बाद इसे बेच दिया जायेगा और तुम्हारी सारी मेहनत
बेकार चली जायेगी. यह सुन कर मकड़ी ने वहां से हट
जाना ही बेहतर समझा .
बार-बार प्रयास करने से वह काफी थक चुकी थी और
उसके अंदर जाला बुनने की ताकत ही नही बची थी. भूख
की वजह से वह परेशान थी. उसे
पछतावा हो रहा था कि अगर पहले ही जाला बुन
लेती तो अच्छा रहता. पर अब वह कुछ नहीं कर
सकती थी उसी हालत मे पड़ी रही.
जब मकड़ी को लगा कि अब कुछ नहीं हो सकता है तो उसने
पास से गुजर रही चींटी से मदद करने का आग्रह किया .
चींटी बोली, ” मैं बहुत देर से तुम्हे देख रही थी , तुम बार-
बार अपना काम शुरू करती और दूसरों के कहने पर उसे
अधूरा छोड़ देती . और जो लोग ऐसा करते हैं ,
उनकी यही हालत होती है.” और ऐसा कहते हुए वह अपने
रास्ते चली गई और मकड़ी पछताती हुई निढाल पड़ी रही.
दोस्तों , हमारी ज़िन्दगी मे भी कई बार कुछ
ऐसा ही होता है. हम कोई काम start करते है. शुरू -शुरू मे
तो हम उस काम के लिये बड़े उत्साहित रहते है पर लोगो के
comments की वजह से उत्साह कम होने लगता है और
हम अपना काम बीच मे ही छोड़ देते है और जब बाद मे
पता चलता है कि हम अपने सफलता के कितने नजदीक थे
तो बाद मे पछतावे के अलावा कुछ नही बचता
दोस्तों हमारी ये कहानी आपको कैसी लगी हमे जरुर बताएं
और ज्यादा से ज्यादा शेयर करके अपने
दोस्तों का भी नजरिया बदलने की कोशिश करे।
धन्यवाद ………