“हम और हमारे ईश्वर, दोनों एक जैसे हैं I
जो रोज़ भूल जाते हैं ….
वो हमारी ग़लतियों को ,
हम उसकी मेहरबानियों को ……