इतनी सीमेंट है
इस शहर की हवा मे
की कब दिल पत्थर का हो जाता है,
पता ही नहीं चलता