एक पापी आदमी मरने के बाद नर्क में गया.

कुछ सालों बाद उसके गांव के ही पंडितजी उसे नर्क में मिल गये.

उस पापी आदमी को बड़ा आश्चर्य हुवा की, ‘सारा गांव जिन पंडितजी की शराफत, इंसानियत की कसमें खाता था,
उन्हे तो स्वर्ग में जाना चाहिये था.’ उसने हैरान होकर पंडितजी से पूछ ही लिया-
” पंडितजी! आप यहाँ कैसे ???

” पंडितजी-” तुम्हारी भाभी के कारण!

” पापी- ” मतलब ?? ”

पंडितजी- ” मैंने मेरी पूरी जिंदगी में कभी झूठ नही बोला, बस बीबी से बोलता था..

.” पापी- ” मै कुछ समझा नही….

” पंडितजी- ” वो रोज सुबह तैयार होकर मुझसे पूछती-

मै कैसी लग रही हूँ जी ??? ”
.
.
.
——————————————————————————————–

 
एक शरीफ आदमी को क्या चाहिए?
.
.
.
एक बीवी जो प्यार करे,
एक बीवी जो अच्छा खाना बनाए,
एक बीवी जो घर संभाल ले।
.
.
.
.
और
तीनों बीवियां मिल-जुलकर रहें! 

———————————————————————————-

 

“कितनी मासुम सी ख़्वाहिश थी इस नादांन दिल की,
जो चाहता था कि..
शादी भी करूँ और 👪….
ख़ुश भी रहूँ “.. 

——————————

कैसे मुमकिन था किसी और दवा से इलाज
“ग़ालिब”
इश्क़ का रोग था, बाप की चप्पल से ही आराम आया…