तेरे होठो के नरम धागे
मेरे हर जख्म की सिलाई कर देते है
तेरे आंखो के टिमटिमाते दीप
मेरी रोशनी की भरपाई कर देते है

—विवेक

Advertisements