“रेस मे जीतनेवाले घोडे
को तो पता भी नही होता कि जीत
वास्तव मे क्या है ,
वो तो अपने
मालिक द्दवारा दी गई तकलिफ
कि वजह से ही दौडता है ,
इसलिए
यदि आपके जीवन मे कभी कोई
तकलिफ आए तो समज
लेना कि आपका मालिक
आपको जीताना चाहता है ।