Tags

,

Some good 2 liners collection
बुलंदी की उडान पर हो तो… जरा सबर रखो,
परिंदे बताते हैं कि… आसमान में ठिकाने नही hote…!!

इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ” ऐ बेखबर”
शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हे….।।

सीख रहा हूं अब मैं भी इंसानों को पढने का हुनर
सुना है चेहरे पे किताबों से ज्यादा लिखा होता है!

“मैं खुल के हँस तो रहा हूँ फ़क़ीर होते हुए !
वो मुस्कुरा भी न पाया अमीर होते हुए”..

Source unknown