Tags

न “माँग” कुछ “जमाने” से
    ” ये” देकर “फिर” “सुनाते” हैं

“किया” “एहसान” “जो” एक “बार”
      वो “लाख” बार “जताते” “हैं”

“है” “जिनके” पास “कुछ” “दौलत”
    ” समझते” हैं “भगवान” हैं “हम”

“ऐ” “बन्दे” तू “माँग” “मेरे” “प्रभू” से
     “जहाँ” माँगने “वो” भी “जाते” हैं

          जय जिनेंद्र    

Source: unknown

Advertisements