Tags

✿ गिरगिट ……! —रचयिता – आचार्य श्री विद्यासागर
जी ✿
जिस वक्ता में
धन-कांचन की आस
और
पाद पूजन की प्यास
जीवित है,
वह
जनता का जमघट देख
अवसरवादी बनता है
आगम के भाल पर
घूँघट लाता है
कथन का ढँग
बदल देता है,
जैसे
झट से
अपना रंग
बदल लेता है
गिरगिट।

Advertisements