Tags

“वो धागा ही था…
जिसने छिपकर पूरा जीवन मोतियों को दे दिया…

और ये मोती…
अपनी तारीफ पर इतराते रहे उम्र भर…