Tags

खून मे ऊबाल, वो आज भी खानदानी है,.,

दुनिया हमारे शौक की नही
ं , हमारे तेवर की दिवानी है,.,!!!

Source : unknown