ज़िन्दगी में अगर बुरा वक्त
नही आता तो –

‘अपनों’ में छुपे हुए ‘गैर’ . . .
और गैरों में छुपे हुए अपने कभी
नज़र नही आते!:)