Tags

. तीन चीजों में मन लगाने से उन्नति होती है -ईश्वर, परिश्रम और विद्या।तीन चीजों को कभी छोटी ना समझे – बिमारी, कर्जा और शत्रु।→√. तीनों चीजों को हमेशा वश में रखो – मन, काम और लोभ।. तीन चीज़ें निकलने पर वापिस नहीं आती – तीर कमान से, बात जुबान से और प्राण शरीर से।→←. तीन चीज़ें कमज़ोर बना देती है – बदचलनी, क्रोध और लालच। तीन चीज़ें कोई चुरा नहीं सकता – अकल, चरित्र और हुनर।→←. तीन व्यक्ति वक़्त पर पहचाने जाते हैं – स्त्री, भाई और दोस्त। तीनों व्यक्ति का सम्मान करो -माता, पिता और गुरु।. तीनों व्यक्ति पर सदा दया करो -बालक, भूखे और पागल।→←. तीन चीज़े कभी नहीं भूलनी चाहिए -कर्ज़, मर्ज़ और फर्ज़। तीन बातें कभी मत भूलें -उपकार, उपदेश और उदारता।  तीन चीज़े याद रखना ज़रुरी हैं -सच्चाई, कर्तव्य और मृत्यु।→←. तीन बातें चरित्र को गिरा देती हैं – चोरी, निंदा और झूठ।. तीन चीज़ें हमेशा दिल में रखनी चाहिए -नम्रता, दया और माफ़ी।→←. तीन चीज़ों पर कब्ज़ा करो -ज़बान, आदत और गुस्सा। तीन चीज़ों से दूर भागो -आलस्य, खुशामद और बकवास।. तीन चीज़ों के लिए मर मिटो -धेर्य, देश और मित्र।. तीन चीज़ें इंसान की अपनी होती हैं -रूप, भाग्य और स्वभाव।→→. तीन चीजों पर अभिमान मत करो –धन, ताकत और सुन्दरता।→→√. तीन चीज़ें अगर चली गयी तो कभी वापस नहीं आती -समय, शब्द और अवसर।→←. तीन चीज़ें इन्सान कभी नहीं खो सकता -शान्ति, आशा और ईमानदारी।→←. तीन चीज़ें जो सबसे अमूल्य है -प्यार, आत्मविश्वास और सच्चा मित्र।

Advertisements