किसी ने सच ही कहा था ।
की जब किताबे सड़क किनारे रख कर बिकेगी और

जूते काँच के शोरूम में तब समझ जाना के लोगों को
ज्ञान की नहीं जूते की जरुरत है।